हज़रत हरम बिन हैयान हज़रत अवैस करनी से मुलाक़ात Haram bin hayyan ki Khuwaja awais karni islamic stories

islamic stories
Sakoonedil

islamic stories

मशहूर ताबई हरम बिन हयान अब्दी खैरुल ताबइन हज़रत खुवाजा अवैस करनी से अपनी पुर असर मुलाक़ात का वाक़्या इस तरह बयान करते हैँ खुवाजा अवैस करनी कोफा मे मुकीम थे मैंने आपकी तारीफ सुनी मुलाक़ात का शौक ग़ालिब हुआ और मैं उनकी जियारत के लिये कोफा पंहुचा लोगों ने बताया कि वोह दरयाये फुरात पर मिलेंगे फुरात के किनारा पर पंहुचा तो देखा कि एक शख्स अकेले बैठा दुपहर के वक़्त वजू कर रहा था और कपडे धो रहा था...

islamic stories

 मैं अवैस के औसाफ सुन चुका था इस लिये फ़ौरन पहचान गया फरबा और रंग गन्दमि था सर मुंडा हुआ था और दाढ़ी घनी थी बदन पर बहुत बाल थे चेहरा बहुत बड़ा और मुहिब था सॉफ का पजामा पहने हुए थे और सॉफ ही की एक चादर जिस्म पर थी मैंने करीब पहुंच कर सलाम किया उन्होंने जवाब दिया और मेरी तरफ देख कर कहा अल्लाह तुम्हे सलामत रखे फिर मैंने मुसाफा के लिये हाथ बढ़ाया लेकिन उन्होंने मुसाफा करने से गुरैज किया और अपने पहले अल्फाज दोहराये की अल्लाह तुम्हे सलामत रखे मुझे उनकी हालत पर बड़ा तरस आया और मेरी आँखों से आंसू बहने लगे जब मैंने रकत भरे लहजे मे कहा कि अवैस खुदा तुम पर रेहमत करें और तुम्हारी मगफिरत फरमाये तो वोह भी रोने लगे और मुझसे मुख़ातिब हो कर फरमाया हरम बिन हयान खुदा तुम पर रहेम करे मेरे भाई तुम्हारा किया हाल है तुम्हे मेरा नाम वा पता किसने बताया मैंने अर्ज किया खुदा ने मगर अये अवैस ये तो बताओ कि तुम्हे मेरा और मेरे बाप का नाम कैसे मालूम हुआ इससे पहले ना मैंने तुम्हे देखा है और ना तुमने मुझे...

islamic stories

हज़रत अवैस ने जवाब दिया तुम्हारा नाम मुझे उसने बताया है जिसके इल्म वा खबर से कोई चीज बाहर नहीं मेरी रूह ने तुम्हारी रूह कि तरफ तवज्जा की और मेरी रूह ने तुम्हारी रूह को पहचान लिया मोमनिन की रूहे एक दूसरे को पहचान लेती हैँ खुवाह साहबे अरवाह का एक दूसरे से कोई तारुफ ना हो और ना कभी वोह एक दूसरे से मिले हो...

islamic stories

मैंने अर्ज की कि रसूले अकरम की कोई हदीषे मुबारक सुनाइये ताकि मे उसे याद करलु हज़रत अवैस ने फरमाया मैंने सरकारे दो आलम सल्लल्लाहु अलैहे वसल्लम की सरफे सोहबत हासिल नहीं हुई अलबत्ता हुज़ूर के सहाबा कराम को देखने की साआदत नसीब हुई है और तुम लोगों की तरह उनकी जुबान से मैंने भी उनकी अहादिष सुनी है लेकिन मे अपने ऊपर ये दरवाजा खोल कर मोहड्डिष मुफ़्ती काजी कहलाना पसंद नहीं करता मुझे खुद अपने नफ़्स के बहुत से काम हैँ ये कहकर वोह मेरा हाथ पकड़ कर रोने लगे...

islamic stories

मैंने दरखुवास्त की की फिर क़ुरान हकीम ही की कुछ आयात सुना दीजिये मेरे दिल मे आपकी जुबान से क़ुरान सुनने का बेहद इस्तियाक है मेरी आपसे मोहब्बत वा अक़ीदत खुदा के लिये है मेरे लिये दुआ फरमाइये और कुछ वसीयते की जिये जिनको मे हिरजे जान बना कर रखु...

islamic stories

मेरी दरखास्त सुन कर अवैस करनी ने औज़ुबिल्लाहि मीनसशैतानीरराजीम पढ़ा और चीख मार कर रोने लगे फिर फरमाया मेरे रब का जिक्र बुलंद है उसका कॉल सबसे सच्चा है उसका क़लाम सबसे अच्छा है ये कहकर उन्होंने सूरह दुखान की कुछ आयात की तिलावत की...(हामीम ये किताब जों वाजेह है हमने उसको मुबारक रात मे उतारा हम लोगों को डराने वाले थे ) हुवल अज़ीज़िर रहीम तक पढ़ कर चीख मारी और बेहोस हो गए होस मे आये तो फरमाया हरम बिन हयान तुम्हारा बाप मार गया अंकरीब तुमको भी मरना है किया खबर जन्नत मे जाये या दोजख मे...

islamic stories

इब्ने हयान आदम फ़ौत हो गए हउआ फ़ौत हो गई इब्ने हयान नूह और इब्राहिम खलिलुल्लाह फ़ौत हो गऐ इब्ने हयान मूसा फ़ौत हो गए इब्ने हयान दाऊद खलीफतुर रेहमान फौत हो गए इब्ने हयान मोहम्मद रसूल अर्रहमान फौत हो गए इब्ने हयान अबूबक्र खलीफातुल मुसलमिन फौत हो गए इब्ने हयान मेरे भाई उमर बिन खत्ताब फौत हो गए ऐ कहकर वो उमरा का नारा लगाये और उनके लिये मगफिरत की दुआ की हज़रत उमर फारूक उसवक्त ज़िंदा थे इस लिये मैंने कहा खुदा आप पर रहेम करें उमर खात्ताब तो अभी फौत नहीं हुए फरमाया हा जो कुछ मैंने कहा है अगर तुम उसको समझो तो जान जाओगे मैं और तुम भी मुर्दा हैँ होने वाली बात हो चुकी है

islamic stories

उसके बाद हज़रत अवैस करनी ने सरकारे दो आलम पर दरूद भेजा फिर कुछ और दुआये पढ़ी और फरमाया हरम बिन हयान मेरी वसीययत ऐ है की किताबुल्लाह को मज़बूती से पकड़ो सलहाये उम्मत की सोहबत इख़्तियर करो और नबी ऐ करीम पर हमेशा दरूदो सलाम भेजते रहो मैंने अपनी और तुम्हारी मौत की खबर देदी आइंदा किसी साअत मौत से ग़ाफ़िल ना रहना वापस जाकर अपनी कौम को भी नसीहत करना और डराना ख़बरदार जमाअत का साथ कभी ना चोड़ना वर्ना बेदीन हो जाओगे और कयामत मे अतिसे जहन्नम का इधन बनना पड़ेगा

islamic stories

फिर उन्होंने दुआ की इलाही ऐ शख्स कहता है कि उसको तेरे लिये मोहब्बत है और इसने तेरे लिये ही मुझसे मुलाक़ात की इस लिये खुदा मुझे तौफीक दे कि मे जन्नत मे इसका चेहरा पहचान जाऊ और दारूस्सलाम मे मेरी इसकी मुलाक़ात हो वोह दुनिया मे जहा कही भी रहे इसको अपने हिफ्ज वा अमान मे रखना इसको कनाअत अता कर इसको अपनी नियामतो का शुक्र गुजार बना और इसको जजाये खैर दे...


islamic stories

दुआ के बाद अवैस ने मुझसे फरमाया अये हरम बिन हयान अब मे तुझे अल्लाह के सुपुर्द करता हु आज के बाद मे तुमको ना देखूंगा मुझे शोहरत पसंद नहीं है गोसा खुलुती ही मेरा रफ़ीक़ है आइंदा मुझे तलाश करने कि कोशिश ना करना मुझे ढूंढने मे तुम कामयाब नहीं हो सकोगे मैं तुम्हे हमेशा याद रखूँगा और तुम मुझे हमेशा याद रखना मेरे लिये दुआये खैर करते रहना अच्छा अस्सलामु अलैकुम वा रहमातुल्लाह ऐ कह क़र वोह एक सिम्त को चले गये...

islamic stories

उसके बाद मैंने उनको बहुत तलाश किया लेकिन किसी से उनके बारे मे कुछ मालूम ना हो सका अलबत्ता कोई हफ्ता ऐसा ना जाता जिसमे उनको एक दो बार खुवाब मे ना देखता हु अल्लाह ताला अवैस पर रेहमत नाजिल फरमाये और उनकी मगफिरत फरमाये

islamic stories

Hazrat Haram bin hayyan ki Khuwaja awais karni se mulaqat

Hazrat Haram Bin Hayyan

Hazrat Khuwaja Awais Karni

Sufi muslim

Sufi islam

Rate This Article

Thanks for reading: हज़रत हरम बिन हैयान हज़रत अवैस करनी से मुलाक़ात Haram bin hayyan ki Khuwaja awais karni islamic stories, Sorry, my Hindi is bad:)

Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.