हज़रत जुलनून मिश्री का तकवा सुफी मुस्लिम hazrat Julnoon mishri ka takwa sufi muslim

Hazrat Julnoon mishri Inspiration for Muslims Allah tala ki rehmat अल्लाह ताला कि रेहमत Wali allah ki kramat वली अल्लाह की करामत islamic waqia in hind
Sakoonedil

हज़रत जुलनून मिश्री का तकवा hazrat Julnoon mishri ka takwa 

sufi muslim

हजरत जुलनून मिश्री रहमातुल्लाहअलै औलिया अल्लाह में बहुत बुलंद मकाम पाया है आपका तरीका इबादत और मुजाहिदे नफ़्स अकले बसरी से बाला तर था इसलिए अहले मिश्र आपको जनदीक कहते थे और आपकी विलायत के कायल ना थे दरबार खिलाफत में हजरत के हालात की शिकायत की गई और खलीफा मुत्वअक्कल अब्बासी के हुकुम से आप पाबजूला मिश्र से बगदाद ले गए असनाये राह में आपको एक औरत ने हिदायत की जुलनून खबरदार हुकूमत के जुल्म से ना डरना खलीफा भी तेरी ही तरह खुदा का एक आजिज बंदा है और बन्दा का बंदे से डरना क्या माना? बंदा हर वक्त मजबूर है वोह कुछ नहीं कर सकता,


sufi muslim

 आप दरबारे खिलाफत में पेश किए गए तो खलीफा ने आपको जेल खाने में भेजने का हुक्म दिया 40 रोज आप जेल खाने में रहे उस दौरान में हजरत बसर हाफी कि हमशरह हर रोज आपको एक रोटी ले जाकर पेश करती रही जिस दिन आपको बाहर निकाला गया तो जेल के मुहाफिजो ने वोह 40 रोटियां आपके हुकुम से गरीबों फुकरा में तक्सीम की जिस वक्त यह खबर हजरत बशर हाफी की बहन को पहुंची कि हजरत जुलनून मिश्री ने मेरी दावते मसनून को रद्द कर दिया और एक दिन भी वोह रोटी नहीं खाई तो उन्हें बहुत सदमा हुआ दिल शिकस्ता और अजर्दा खातिर हाजरे खिदमत हुई और फरमाया हजरत आपको इल्म है कि ये रोटियां कस्बे हलाल की थी और खुदा गवाह है कि उसके जरिए आप पर कोई एहसान करना मकसूद ना था फिर आपने उन्हें क्यों कबूल नहीं किया हजरत जुलनून मिश्री ने फरमाया वोह रोटियां बेशक हलाल थी मैं जानता हूं मगर वोह दरोगा जेल के नापाक हाथों से आई थी इसलिये मेरे लिये हलाल ना थी ये था औलिया अल्लाह का तकवा,

sufi muslim


  बसरी हैसियत से 40 रोज तक कुछ ना खाने से कमजोरी वा नातवानी इस दर्जा बढ़ गई थी कि जब आपको जेल से निकाला गया तो आप कमजोरी की वजह से जमीन पर गिर पड़े सर फट गया मगर अल्लाह ताला की कुदरत का इस तरह इजहार हुआ कि हजरत जुलनून के कपड़ों पर कोई खून की छीट भी ना थी इसी तरह जमीन पर भी खून का कोई कतरा नजर ना आता था जितना भी खून पेशानी से निकला कुदरत ने अपने दामने रहमत में जजब कर लिया हजरत जुलनून को खलीफा के सामने पेश किया गया तो दरबारे आम में खलीफा ने आपसे चंद सवालात किये अपने निहायत फसाहत वा खताबत और जुर्रत वा दिलेरी से खलीफा बगदाद के सवालात का जवाब दिया और इस तरह खलीफा और दरबारी लोगों पर रक्त तारी हो गई खलीफा मुतवाक्कल अब्बासी ने उसी वक्त आपके दस्ते अकदस पर बैत की और निहायत एजाज व इकराम के साथ आपको मिश्र वापिस भेज दिया गया,


sufi muslim


 सच फरमाया गया है, जो अल्लाह का हो जाता है अल्लाह उसका हो जाता है, एक तरफ तो दुश्मनाने हक अल्लाह ताला के वली को तकलीफ दे रहे हैं और तोहीन कर रहे हैं और हसद जलन के सिफली जज्बात से मजबूर होकर हुकूमत से शिकायत करते हैं और सजा दिला कर आतसे हसद को ठंडा करते हैं और दूसरी तरफ अल्लाह ताला की शान ऐ करीमी ये है कि अपने वली की आजमाइश तहामुल वा तवक्कल के बाद ये इज्जत अफजाई फरमाई गई है कि हुकूमत के मुकतदरे आला को हजरत जुलनून मिश्री के कदमों पर झुका देती है

islamic story in hindi

Hazrat Julnoon mishri

Inspiration for Muslims

Allah tala ki rehmat

अल्लाह ताला कि रेहमत

Wali allah ki kramat

वली अल्लाह की करामत

islamic waqia in hindi

Wali allah kramat

Sufi muslim

सुफी मुस्लिम 

दरूद शरीफ 

Darood sharif

इस्लाम हिंदी 

Islam hindi

सुफी इस्लाम 

Sufi islam

Ahle bait

वजीफा 

Wazifa

वली अल्लाह

Auliya

वली 

Wali

दुआ 

Dua

Rate This Article

Thanks for reading: हज़रत जुलनून मिश्री का तकवा सुफी मुस्लिम hazrat Julnoon mishri ka takwa sufi muslim, Sorry, my Hindi is bad:)

Getting Info...

एक टिप्पणी भेजें

Cookie Consent
We serve cookies on this site to analyze traffic, remember your preferences, and optimize your experience.
Oops!
It seems there is something wrong with your internet connection. Please connect to the internet and start browsing again.
AdBlock Detected!
We have detected that you are using adblocking plugin in your browser.
The revenue we earn by the advertisements is used to manage this website, we request you to whitelist our website in your adblocking plugin.
Site is Blocked
Sorry! This site is not available in your country.